मिशन साहसी से बना रहे निडर

0
12

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) देशभर की महिलाओं को सशक्त बनाने की मुहिम चला रही है। इसका नाम उसने ‘मिशन साहसी’ रखा है। परिषद से मिली जानकारी के अनुसार देशभर के 30 प्रदेशों में 350 जगह पर ये कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं। अब तक ‘मिशन साहसी’ के पूरे देश में आयोजित किए गए लगभग 450 प्रशिक्षण शिविरों में पांच लाख से अधिक छात्राएं प्रशिक्षण ले चुकी हैं। मिशन साहसी का उद्देश्य छात्राओं को निडर, स्वयंसिद्धा बनाने का है।
1 नवंबर को गौतमबुद्ध नगर जिले के महामाया बालिका इंटर कॉलेज और 2 नवंबर को राजधानी के दिल्ली विश्वविद्यालय में दो बड़े कार्यक्रम हुये। इनमें हजारों छात्राओं ने हिस्सा लिया। गौतमबुद्ध नगर के कार्यक्रम में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्रीनिवास ,प्रदेश संगठन मंत्री महेश राठौर, एसएसपी अजय पाल शर्मा, विधायक तेजपाल नागर, महामाया कॉलेज की प्रधानाचार्या उपस्थित रहीं। श्रीनिवास ने कहा, ‘मिशन साहसी के माध्यम से हम देश की बेटियों को ये बताना चाहते हैं कि वो कमज़ोर नहीं है।’ एसएसपी अजयपाल शर्मा ने कहा कि ‘छात्राओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एबीवीपी की यह मुहिम सराहनीय है।’

परिषद के मेरठ प्रांत के मीडिया प्रभारी दीक्षांत सूर्यवंशी ने बताया कि कार्यक्रम में लगभग 50 स्कूलों की 2500 छात्राओं ने हिस्सा लिया। इन छात्राओं ने आत्मरक्षा का सामूहिक प्रदर्शन भी किया।
मिशन साहसी का एक रूप दिल्ली विश्वविद्यालय परिसर में भी देखने को मिला। इसमें पूरी दिल्ली से छह हजार छात्राओं ने लिया भाग लिया। 2 नवंबर को मिशन प्रहार तथा डूसू के संयुक्त तत्वावधान में छात्राओं को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण देने हेतु चलाए जा रहे प्रशिक्षण कार्यक्रम ‘मिशन साहसी’ का मेगा प्रदर्शन कैंप दिल्ली विश्वविद्यालय के नार्थ कैंपस स्थित पोलो ग्राउंड में आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में 6 हजार छात्राओं ने भाग लिया ।

दिल्ली में 28 अक्टूबर से विभिन्न कॉलेजों तथा स्कूलों में मिशन साहसी के प्रशिक्षण कैंप आयोजित किए गए। डीयू के नार्थ कैंपस के दौलतराम कॉलेज तथा रामजस कॉलेज तथा साउथ कैंपस के श्री वेंकटेश्वर कॉलेज में मिशन साहसी के प्रशिक्षण कैंपों में हजारों छात्राओं ने भाग लिया। परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ एस सुबैय्या ने कहा, ‘समाज में महिलाओं को सशक्त बनाने हेतु मिशन साहसी एक सकारात्मक पहल है जो महिलाओं के मध्य आत्मविश्वास का संचार करने में सफल सिद्ध होती दिख रही है।’ कार्यक्रम में मुख्य प्रशिक्षक की भूमिका में शिफू जी शौर्य भारद्वाज तथा उनकी टीम रही। शिफू जी ने कहा कि वर्तमान समय में बेटियों को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण बेहद जरूरी है। कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि अद्वैता काला ने कहा कि मिशन साहसी कार्यक्रम वर्तमान समय के साथ बेहद प्रासंगिक होता जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम समाज में सकारात्मक बदलाव लाने में निश्चित तौर पर सफल होगा।

कार्यक्रम में उत्तरी दिल्ली नगर निगम के महापौर आदेश गुप्ता, पर्वतारोही शिवांगी पाठक, अभाविप के राष्ट्रीय सह-संगठन मंत्री श्री श्रीनिवास तथा प्रफुल्ल कांत, राष्ट्रीय मंत्री निधि त्रिपाठी, राष्ट्रीय मीडिया संयोजक मोनिका चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष डॉ अवनीश मित्तल, प्रदेश मंत्री भरत खटाना, दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ के अध्यक्ष अंकिव बसोया, उपाध्यक्ष शक्ति सिंह तथा सह सचिव ज्योति चौधरी उपस्थित रहे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here