ताजा होती बंटवारे की स्मृति

0
27

दे ने 71वां स्वतंत्रता दिवस मनाया है। अगस्त का पूरा महीना उत्सव सरीखा रहालेकिनइसी दौरान राजधानी दिल्ली के बीचों-बीच बीकानेर हाउस में एक प्रदर्शनी लगीजिसनेदेश बंटवारे के दर्द को ताजा कर दिया।

से 24 अगस्त तक चली इस प्रदर्शनी को ‘1947 आर्काइव‘ शीर्षक से लगाया गया था। प्रदर्शनी मेंकुछ वैसे सामान रखे गए थेजिसे बंटवारे के वक्त आम लोगों ने इस्तेमाल किया था।

प्रदर्शनी में एक छोटी छुरी रखी दिखी। उसके साथ एक पर्ची में जो लिखा हैउसके अनुसार छुरीभाग मल्होत्रा नामक व्यक्ति की है। बंटवारे के समय हुए साम्प्रदायिक हिंसा के दौरान सुरक्षा केलिहाज से मल्होत्रा ने उस छुरी को अपने साथ रखा था।

कहा जाता है कि ऐसे लोगों की संख्या काफी थीजो हिंसा और भय के वातावरण में अपने पासयथासंभव धारदार हथियार रखने को विवश थेताकि मुश्किल घड़ी में परिवार और स्वयं की रक्षा करसकें।

मुल्क के बंटवारे से प्रभावित लोगों से बातचीत कर बनी डॉक्यूमेंट्री भी यहां
दिखाई गई। बीकानेर हाउस के एक खूबसूरत कक्ष में प्रदर्शनी लगी थीजो कक्ष प्रवेश
करते ही बंटवारे के दर्द का आभास करा रही थी।

उस छुरी के साथ ही धातु से बनी यह सीटी रखी है। वह नंद किशोर निजवान की है। निजवानस्वतंत्रता से पहले ब्रिटिश सेना में शामिल थे। बंटवारे के वक्त वे इस सीटी को अपने साथ भारत लेकरआए थे। देश बंटवारे के वक्त निजवान 19 साल के थे।

मुल्क के बंटवारे से प्रभावित लोगों से बातचीत कर बनी डॉक्यूमेंट्री भी यहां दिखाई गई।बीकानेरहाउस के एक खूबसूरत कक्ष में प्रदर्शनी लगी थीजो कक्ष प्रवेश करते ही बंटवारे के दर्द का आभासकरा रही थी।

70 साल पहले जब हिन्दुस्तान आजाद हुआ था तो देश का बंटवारा भी हो गया। एक नए देश बना– पाकिस्तान। भारत और पाकिस्तान की सीमाओं की घोषणा स्वतंत्रता के दो दिन बाद 17 अगस्त कोहुई। अफरातफरी और हिंसा के बीच लाखों जिंदगियां तबाह हुई। काफी कम अंतराल में करोड़ों लोगसीमा के आरपार आए और गए। उस दौरान जो घटनाएं हुईं ‘1947 आर्काइव‘ ने प्रदर्शनी के जरिएउस स्मृति को जिंदा किया है।

इसकी वजह यही है कि समय के साथ वो स्मृतियां धुंधली पड़ती जा रही थी। जिस पीढ़ी ने बंटवारे कोदेखा और भोगा हैवह तेज़ी से खत्म हो रही है। उनके साथ उनकी यादें भीलेकिन उनकी स्मृतियोंको उनकी ही आवाज में संरक्षित करने की कोशिश सराहनीय है। प्रदर्शनी में दर्द का इतिहास तो हैहीलेकिन मानवता के भी खुश खूबसूरत पल सुनने को मिलते हैं।

यहां पत्थर और लकड़ी से बना यह मूसल रखा हैजो इसर दास निजवान का है। वे इसे पाकिस्तान केशहर डेरा गाजी खान से रोहतक ले आए थे। इसर दास निजवान एक हकीम थे और इस मूसल कीमदद से दवाइयां पीसने का काम करते थे। उसी तरह इंद्र प्रकाश पोपली का रिफ्यूजी पहचान पत्र भीरखा दिखाई देता है। उस पत्र के अनुसार पोपली का जन्म मुल्तान में हुआ था। विभाजन के दौरान वेदिल्ली चले आए।

ऐसी कई ऐतिहासिक महत्व की चीजें बीकानेर हाउस में प्रदर्शित थीं। वहां लगी मानचित्र को देखकरकोई भी अनुमान लगा सकता था कि बंटवारे ने देश के हर कोने को प्रभावित किया। दिल्ली औरलाहौर के बीच आनेजाने वालों का तो कोई हिसाब ही नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here