गरीबों को ‘शिकार’ बना रही है ईसाई मिशनरी

0
221
झारखंड के लिट्टीपाड़ा प्रखंड (पाकुड़ जनपद) के कामोगोड़ा में दो गांव हैं। पहला छोटा कोमागोड़ा और दूसरा बड़ा कामोगोड़ा। इसमें तीन टोले हैं। दोनों गांव के तीनों टोलों में लगभग 60 घर हिन्दू पहाडि़यों के हैं। गरीबी और बदहाली का लाभ लेकर इन लोगों को प्रलोभन देकर ईसाई बनाया जा रहा है। छोटा और बड़ा कामोगोड़ा में अब तक 8 घरों के लोग ईसाई बन चुके हैं।

धर्मांतरण और पत्थलगड़ी के मंथन पर हाल ही में स्वामी अग्निवेश के साथ मारपीट के लिए चर्चा में आया पाकुड़ जिला फिर सुर्खियों में है। संथाल परगना के पाकुड़ जिले में एक प्रखंड है लिट्टीपाड़ा। यहां के कामोगोड़ा समेत अन्य गांवों में बड़े पैमाने पर धर्म परिवर्तन करा हिन्दुओं को ईसाई बनाया गया। आगे भी धर्मांतरण की तैयारी है। पुलिस की स्पेशल ब्रांच ने इसकी रिपोर्ट मुख्यमंत्री रघुवर दास को सौंप कर पूरे प्रकरण से अवगत कराया है। संथाल में चल रहे धर्मांतरण से संबंधित आॅडियो सहित अन्य जानकारी भी उपलब्ध करा दी गयी है। झारखंड में धर्मांतरण में पकड़े जाने पर चार साल तक की सजा और एक लाख रुपये जुर्माने का प्रावधान है। लिट्टीपाड़ा के कामोगोड़ा में दो गांव हैं। पहला छोटा कोमागोड़ा और दूसरा बड़ा कामोगोड़ा। इन दोनों गांवों में घुसते ही गरीबी, बेबसी और लाचारी के दर्शन होते हैं।

मूलभूत सुविधाएं भी नहीं हैं। कामोगोड़ा में स्कूल भवन तो है, लेकिन शिक्षक कभी नहीं आते। अधिकतर बच्चों में कुपोषण के लक्षण दिखाई देते हैं। शायद ही ऐसा कोई बच्चा दिखता हो जिनके बदन पर मुकम्मल कपड़े हों। खाने के नाम पर ग्रामीण आज भी अपने उपजाए हुए मक्का, बाजरे, बरबट्टी आदि पर निर्भर हैं। यातायात की सुविधा नहीं है। गांव में जाने के लिए कम से कम 5 से 6 किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ता है। पानी के लिए झरना ही सहारा है। बड़ा कामोगोड़ा के जोमे पहाडि़या बताते हैं कि दोनों गांव के तीनों टोलों में लगभग 60 घर हिन्दू पहाडि़यों के हैं। इन लोगों को प्रलोभन देकर ईसाई बनाया जा रहा है। छोटा और बड़ा कामोगोड़ा गांव में अब तक 8 घरों के लोग ईसाई बन चुके हैं। जोमे बताते हैं कि गांव में गिरजाघर नहीं है। स्पेशल ब्रांच ने रिपोर्ट में कहा है कि कामोगोड़ा, गोविंदपुर और लकड़ा गांवों में सोलर लाइट, राशन, कपड़ा सहित जरूरत के सामान बांटकर लोगों का धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है। उन्हें आर्थिक मदद भी दी जा रही है। इसके साथ ही वृद्धा पेंशन, इंदिरा आवास सहित स्वास्थ्य संबंधी सरकारी सेवाओं का लाभ दिलाने के भी प्रलोभन दिये जा रहे हैं।

इसकी पुष्टि कामोगोड़ा गांव के जोमे पहाडि़या भी करते हैं। वे बताते हैं, 3-4 माह में बाहर के लोग आते हैं और धर्म बदलने का दबाव डालते हैं। कहते हैं, ईसाई बन जाओ तो घर बनवा देंगे। पूरे परिवार के लिए कपड़ा और बर्तन भी मिलेंगे। बीमार होने पर मुμत में इलाज करवाया जायेगा, लेकिन हम लोगों को यह मंजूर नहीं है। लेकिन, वे इतना जरूर कहते हैं कि हिन्दू पहाडि़यों के धर्म बदलने की अंदर ही अंदर सुगबुहाट तो है। इसी गांव के सुरेश मालतो ईसाई बन चुके हैं। अपने गांव के लोगों को भी ईसाई बनने के लिए प्रेरित करते हैं। सुरेश गांव के संपन्न व्यक्ति हैं। उनके पास बाइक भी है, लेकिन ग्रामीणों को यह नहीं पता कि सुरेश करते क्या हैं? सिर्फ यही बता पाते हैं कि वे दुर्भागा गांव में रहते हैं और सप्ताह में एक-दिन ही कामोगोड़ा आते हैं। स्पेशल ब्रांच की ओर से सरकार को सौंपी गई रिपोर्ट में हिरणपुर निवासी बंटी स्वर्णकार क्षेत्र में धर्मांतरण करने में सहयोग करता है। बंटी पूरे परिवार के साथ धर्मांतरण कर ईसाई बन चुका है और अब बंटी स्वर्णकार से अभिषेक बंटी बन चुका है। बंटी भोले-भाले लोगों के अलावा अपनी महिला सहपाठियों को भी ईसाई बनने का प्रलोभन देता है। ऐसा नहीं करने पर उन्हें फंसाने की भी धमकी दी जाती है।

स्पेशल ब्रांच की रिपोर्ट

संथाल परगना में इन दिनों अभियान चलाकर धर्म परिवर्तन कराये जा रहे हैं। यह खुलासा स्पेशल ब्रांच ने किया है। इससे संबंधित रिपोर्ट सरकार को सौप दी है। रिपोर्ट के अनुसार, लिट्टीपाड़ा से 15 किमी दूर कामोगोड़ा, गोविंदपुर और लकड़ा गांवों के अधिकांश लोगों का धर्मांतरण हो चुका है। वे ईसाई बन चुके हैं। हाल ही में ईसाई मिशनरी के करीब 20 लोग संथाल क्षेत्र में आये थे। हिरणपुर गांव के बंटी स्वर्णकार के साथ मिलकर धर्म परिवर्तन कराने का अभियान चला रहे हैं। वह पाकुड़ के सुंदरपाड़ा निवासी समर कुमार रक्षित, दांगापाड़ा के ज्ञान रविदास और हिरणपुर (लिट्टीपाड़ा) की पूनम कुमारी के संपर्क में है। इन सभी की धर्म परिवर्तन कराने में भूमिका है। स्पेशल ब्रांच को बंटी का एक आॅडियो भी मिला है। उसमें संथाल के लोगों को धर्म बदल कर ईसाई बनने के लिए लालच दिया जा रहा है। सीएम को सौंपे रिपोर्ट में स्पेशल ब्रांच ने कहा है कि बाबूलाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) नेता जीतेंद्र मालतो पहले स्वामी अग्निवेश के साथ मिलकर धर्म के प्रचार-प्रसार और धर्मांतरण में कार्य में लगे थे। अब ईसाई मिशनरी के साथ मिलकर धर्म परिवर्तन करा लोगों को ईसाई बना रहे हैं। साहेबगंज के बरहेट प्रखंड में ईसाई मिशनरी का एक आवासीय विद्यालय है। वहां भी लड़कियों का धर्मांतरण करवाया जा रहा है। बदले में उन्हें मुμत शिक्षा दी जा रही है। रिपोर्ट के अनुसार, संथाल परगना प्रमंडल के साहेबगंज, पाकुड़, गोड्डा और दुमका जिले के गरीब आदिवासियों के बच्चों को गांव के ही मुखिया और ग्राम प्रधान की मिलीभगत से बेहतर शिक्षा का प्रलोभन देकर तमिलनाडु और केरल भेजा जा रहा है। शिक्षा देने के बहाने उनका धर्मांतरण कराया जा रहा है। कानूनी परेशानियों में फंसने से बचने के लिए ईसाई मिशनरी के लोग बाहर जाने वालों बच्चों के मां-पिता से लिखित रूप से ले रहे हैं कि गरीबी के कारण बेहतर शिक्षा के लिए बाहर भेज रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here