35.4 C
delhi
Monday, April 22, 2019

पाक जेल से लौटे हामिद बोलेशुक्रिया भारत मां

अठारह दिसंबर, 2018 को पूरे 2,232 दिन (हामिद की मां को यह आंकड़ा भलीभांति याद है) बाद अमृतसर स्थित ज्वाइंट चेक पोस्ट पर अटारी...

चीन की गिरफ़्त से भारत ही बचा सकता है

साम्राज्यवादी महत्वाकांक्षा रखने वाली सत्ताएं अपनी देशीय परिधि से बाहर निकलकर कुछ ऐसे खेल खेलती रहती हैं जिनका शिकार प्राय: छोटे देश अथवा क्षेत्र...

घुटनाटेक इमरान

इमरान ने नए पाकिस्तान का नारा दिया था। पक्ष शुरुआत में मान रहा था कि इमरान स्वयं को अंतरराष्ट्रीय फलक पर अलग तरह से...

ईरान के पीछे क्यों पड़े हैं ट्रम्प

अमेरिका ने आठ देशों को छह महीने के लिए छूट दी है कि वे ईरान से तेल खरीदते रह सकते हैं, लेकिन उन्हें निरंतर...

चीन के विरुद्ध अमेरिका का तीसरा मोर्चा

चीन में अल्पसंख्यक मुसलमानों पर होने वाला अत्याचार अमेरिका का तीसरा मोर्चा है। यह सिलसिला संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग की रिपोर्ट आने के बाद शुरू...

सत्ता परिवर्तन और जुप्ता बंधु

दक्षिण अफ्रीका में राष्ट्रपति जैकब जुमा की बेदखली और सिरिल रामफोसा की ताजपोशी के बीच सबसे अधिक चर्चा में तीन भारतीय भाई हैं। उत्तर प्रदेश...

विश्व राजनीति में भारत का अंगद पांव

रूस के शासक परिवार का एक दंपत्ति करीब 150 साल पहले अपने साम्राज्य के दक्षिणीछोर पर कैस्पियन सागर के तट पर स्थित बाकू कस्बे के भ्रमण पर आया। स्थानीय गवर्नर ने जार और जरीना को वहां स्थित अग्नि मंदिर के बारे में बताया। शाही दंपत्ति जब अग्नि मंदिर पहुंचा तो भारतीय पुजारी ने परंपरागत तरीके से उनका स्वागत किया।उन्हें गर्भ गृह तक ले गया, जहां पृथ्वी से अग्नि की लौ प्राकृतिक रूप से प्रकट थी। यही मंदिर कीआराध्य ज्योति थी। आध्यात्मिक परिवेश से अभिभूत जरीना ने अपने पति से पूछा– ‘क्या हम भारत मेंआ गए हैं या हमारा साम्राज्य भारत तक फैल गया है।‘ आज बाकू मध्य एशिया के अजरबैजान देश का हिस्सा है। कभी दुनिया की ऊर्जा राजधानी माने  जानेवाले इस इलाके में तेल और प्राकृतिक गैस का इतना दोहन हुया कि   स्वाभाविक रूप से अग्नि मंदिरतक आने वाली गैस समाप्त हो गई। आराध्य लौ बुझ गई। ऐसे समय जब अमेरिका का ट्रंप प्रशासन विश्व मामलों में अपनी दिलचस्पी कम कर रहा है तो ‘शंघाई सहयोग संगठन‘ (एससीओ) इस रिक्तता को भरनेका कारगर माध्यम है। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने अजरबैजान अधिकारियोंसे आग्रह किया कि वे कोई वैकल्पिक व्यवस्था करें। आज बाकू का अग्नि मंदिर अजरबैजान कीसांस्कृतिक धरोहर है और वहां कृत्रिम  रूप से गैस की आपूर्ति कर आराध्य ज्योति को प्रज्जवलितरखा गया है। इसी तरह गुजरात मुख्यमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी को वर्ष 2001 में बाकू से कुछ दूर स्थित दक्षिणी रूस के अस्त्राखान  कस्बे के भ्रमण का अवसर मिला। वह आश्चर्यचकित रह गए, जब अधिकारियों नेवहां स्थित मुल्तानी बस्ती के बारे में उन्हें बताया। यह बस्ती भारतीय व्यापारियों ने बसाई थी, जो उसइलाके में कारोबार करते थे। बाकू का अग्नि मंदिर और अस्त्राखान की मुल्तानी बस्ती इस बात का प्रमाण है कि कुछ सदी पहले तक भारतीय लोग मध्य एशिया के देशों से सांस्कृतिक और व्यापारिक रूप से कितनी निकटता के साथ जुड़े थे। आजादी के बाद भारत के लिए यह अवसर था कि वह इन संबंध सूत्रों को और मजबूत बनाता। लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारतीय कूटनीति को मध्य एशिया केंद्रित बनाने की पहल की है। देश कीभावी ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए इस इलाके का विशेष महत्व है। भारत को अतीत में पश्चिमोत्तर से ही हमलों का सामना पड़ा था। इस्लामी आतंकवाद यहां पांव जमा रहा है और भारत उसके निशाने पर है। एक व्यापक गठजोड़ के जरिए ही भारत इस खतरे का सामना कर सकता है। मोदी सरकार केकूटनीतिक प्रयासों का ही नतीजा है कि भारत को हाल ही में मध्य एशिया के देशों की प्रमुख भूमिकावाले एशियाई मंच ‘शंघाई सहयोग संगठन‘ (एससीओ) की पूर्ण सदस्यता हासिल हो गई है। पिछलेदिनों कजाखिस्तान के अस्ताना नगर में आठ और नौ जून को संपन्न एससीओ शिखर बैठक में भारतऔर पाकिस्तान को पूर्ण सदस्यता प्रदान की गई और इस प्रकार अब इस संगठन की सदस्य संख्याआठ हो गई है। यह ‘अष्ट प्रधान‘ 21वीं सदी की विश्व राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। अस्ताना घोषणा–पत्र विश्व को बहु–ध्रुवीय बनाने का जरिया बनेगा। एससीओ के चार्टर के अनुसार इस संगठन में शामिल देश अपने द्विपक्षीय मुद्दों को नहीं उठा सकते हैं। रूस और चीन के वर्चस्व वाले 16 वर्ष पुराने इस संगठन में अब तक कुल छह सदस्य थे। अन्यसदस्य थे–कजाखिस्तान, किर्गिजस्तान, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान।नए सदस्य देशों केप्रतिनिधि के रूप में प्रधानमंत्री मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने बैठक में भागलिया।ईरान, अफगानिस्तान, बेलारूस और मंगोलिया के नेताओं ने पर्यवेक्षक रूप में बैठक मेंहिस्सेदारी की।पहले भारत और पाकिस्तान को भी पर्यवेक्षक का दर्जा हासिल था। एससीओ के बीजिंग स्थित मुख्यालय में 15 जून को भारत तिरंगा और पाकिस्तान का झंडा फहरायागया।संगठन महासचिव रशीद अलीमोव ने इस अवसर पर कहा कि 16 साल पहले यह संगठन विश्वमानचित्र पर उभरा था।आज मुख्यालय पर आठ देशों का झंडा फहरा रहा है। ये सब देश संगठन के चार्टर की भावना के अनुरूप सम्मिलित रूप से विश्व घटनाक्रम को प्रभावितकरेंगे।बीजिंग में एससीओ मुख्यालय पर भारत और पाकिस्तान राष्ट्रीय ध्वजों का साथ–साथ फहरानाभारतीय उपमहाद्वीप की राजनीति में एक नई शुरुआत है।सीमा पार आतंकवाद का शिकार भारतलंबे समय तक पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय मंच पर अलग थलग करने की मुहिम  चलाता रहा है। भारतने पाकिस्तान को राष्ट्रमंडल देशों की बिरादरी से बाहर रखने का अभियान भी चलाया  था। इसी तरह भारत चाहता है कि समुदाय पाकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित करे इन परिस्थितियोंमें यह सवाल उठना  लाजिमी है कि भारत संगठन में क्यों शामिल हुआ, जिसमें पाकिस्तान बराबर की हैसियत रखता है? सरसरी तौर पर तो कारण यह है कि चीन संगठन में पाकिस्तान को शामिल करने की वकालत कररहा था लेकिन इससे भीमहत्व की बात यह है कि एससीओ चार्टर और इस संगठन की आतंकवाद विरोधी रणनीति भारत के तात्कालिक और   दूरगामी हितों से मेल खाती है। मुंबई हमलों सहित विभिन्नवारदातों से पल्ला झाड़ने वाले पाकिस्तान को एससीओ देशों की आतंकवादी विरोधी सैन्य औरखुफिया गतिविधियों में भाग लेना  होगा। आने वाले दिनों में असंभव लगने वाली बात संभव बनेगी, जब भारत और पाकिस्तान के कमांडोज एकसाथ एससीओ के आतंकवाद विरोधी अभियान के तहत सैन्य अभ्यास करेंगे।एक तरफ रूस चेचन्यामें तो चीन शिंजियांग में और भारत जम्मू कश्मीर में आतंकवाद का सामना कर रहा है।

इस्लामिक आतंकवाद पर एकमत मोदी और ट्रंप

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की व्हाइट हाउस में हुई पहली मुलाकात से दोनों के बीच एक प्रकार की...

रोहानी की जीत में ईरान का भविष्य

ईरान में हसन रोहानी राष्ट्रपति पद पर दोबारा चुन लिए गए हैं। यह ईरान के लोगों की मानसिकता में आ रहे परिवर्तन और ईरानी...

सही समय पर नरेन्द्र मोदी की दस्तक

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हाल ही में यूरोप के चार देशों की छह दिवसीय यात्रा कर वापस लौटे हैं। प्रधानमंत्री की यह यात्रा उस समय...
- Advertisement -

LATEST NEWS

MUST READ