29.8 C
delhi
Thursday, March 21, 2019

देश

रिजर्व बैंक से सुलह के संकेत

रिजर्व बैंक ने केन्द्र सरकार से सुलह का संकेत दिया है। उसने छोटे और मंझोले कारोबारियों को धन उपलब्ध कराने के लिए रास्ता खोलने की उम्मीद जगाई है। दरअसल सरकार से उसके टकराव के...

अर्थव्यवस्था की बर्बादी

किसानों की कर्जमोफी जैसी समस्या का राजनीतिक समाधान खोजना ही होगा। इससे मुठ्ठीभर बड़े किसानों को ही तात्कालिक लाभ होता है। छोटे किसान वंचित ही रह जाते हैं। बड़ी आबादी को कर के रूप...

बाघों के 25 स्टार्ट-अप से अरबों की कमाई

यह आपको अजीब लगे पर हकीकत यही है कि भारत में इस समय बाघों के अनेक स्टार्ट-अप हैं और हरेक की कमाई करोड़ों नहीं अरबों रुपए में हैं। अपने इन 25 स्टार्ट-अप से वे हमें...

जमीनी चुनाव में भी माकपा साफ

त्रिपुरा में लंबे समय तक शासन करने वाली मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) वर्तमान दौर में अपनी जमीन पूरी तरह से खो चुकी है। कांग्रेस की बची खुची जमीन भी खिसक चुकी है। कांग्रेस राज्य...

भूमाफियाओं के खेल में केजरीवाल सरकार

उपलब्ध दस्तावेजों की मानें तो केजरीवाल सरकार गांव की जमीन हथियाने में लगी है। इसके लिए वह सरकारी तंत्र का दुरुपयोग कर रही है। खेती योग्य जमीन को जबरदस्ती ग्राम सभा की जमीन घोषित...

नायक नहीं, खलनायक

टीपू जैसे खलनायक की जयंती वही मना सकता है, जो अपना स्वाभिमान और इतिहासबोध खो बैठा हो। ऐसे ही इतिहासकारों की संगत में सिद्धरामैया को टीपू जयंती मनाने की सूझी। वे अपने आपको नास्तिक...

सभी प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर फहरेगा राष्ट्रध्वज

स्वतंत्रता तथा गणतंत्र दिवस जैसे मौके पर ही राष्ट्रध्वज फहराने की परंपरा को अब आंशिक रूप से बदला जा रहा है। अब देश के सभी प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर राष्ट्रध्वज फहराया जाएगा। रेलवे बोर्ड...

कुंभ से पहले युवा कुंभ

प्रयागराज में इसी माह से कुंभ जैसा बड़ा धार्मिक-सांस्कृतिक आयोजन होने जा रहा है। पूरे विश्व से करीब 15 करोड़ लोगों के आने का अनुमान है। पहला स्नान 15 जनवरी को है। प्रयागराज कुंभ...

असम समस्या के लिए जिम्मेदार कौन?

असल में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश सभी जगह बसे हुए हिन्दुओं को पलायन करना पड़ रहा है। हिन्दू होने के नाते भारत में बसने का उन्हें सहज अधिकार होना चाहिए। वे भारत-विभाजन की त्रासदी...

दो साल चलेगा स्मरण का सिलसिला

1969 में गांधी जन्म शताब्दी के अवसर पर सरकार एवं गांधीवादी संस्थाएं एक साथ थीं। गांधी जन्म शताब्दी के अवसर पर गांधीवादियों की योजना को ही सरकार ने स्वीकार कर लिया था और इसके...
- Advertisement -

LATEST NEWS

MUST READ