25.8 C
delhi
Sunday, November 18, 2018

देश

उत्तर भारतीयों का भी है भारत

गुजरात में दंगा भड़काने वाले शख्स का नाम अल्पेश ठाकोर है। जो अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी का राष्ट्रीय सचिव और राहुल गांधी का चहेता है। राहुल ने अल्पेश को बिहार में कांग्रेस का सह...

‘व्यभिचार को वैधता’ से मुश्किलें

भारतीय समाज में बेटी व पत्नी दोनों ही परिवार की इज्जत मानी जाती हैं। पर-पुरुष से संबंध रखने वाली पत्नी कुलटा, कलंकिनी और कुलनाशिनी मानी जाती है। उसके अवैध संबंधों का पता लगने पर...

आजन्म शिष्य ही बने रहे कलाम

15 अक्टूबर को पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म दिन है। बिहार के मुंगेर स्थित विश्व प्रसिद्ध बिहार योग विद्यालय से उनका गहरा नाता रहा । वहां के गुरुओं के लिए वह...

स्वच्छ भारत अभियान बना जनांदोलन

दो अक्टूबर 2019 को मनाये जाने वाले महात्मा गांधी की 150वीं जयंती वर्ष में प्रवेश के साथ ही स्वच्छ भारत अभियान अपने कार्यान्वयन के पांचवें और अंतिम वर्ष में पहुंच गया है। यह अभियान...

दो साल चलेगा स्मरण का सिलसिला

1969 में गांधी जन्म शताब्दी के अवसर पर सरकार एवं गांधीवादी संस्थाएं एक साथ थीं। गांधी जन्म शताब्दी के अवसर पर गांधीवादियों की योजना को ही सरकार ने स्वीकार कर लिया था और इसके...

भारत के आक्रामक होने का सही समय

बात चाहे बलूचिस्तान में मानवाधिकार हनन के लंबे इतिहास और उसके कारण समाज के दिलो दिमाग पर खिंची दर्द की गहरी लकीरों की पृष्ठभूमि में उभरी मानवीय चिंता की हो या फिर भावनाओं की दुनिया...

हिन्द महासागर से प्रशांत महासागर तक

फ्रांस के राष्ट्रपति एमानुएल मैक्रॉन की भारत यात्रा विश्व राजनीति में भारत की बढ़ती पहुंच का एक और अवसर साबित हुई। घरेलू राजनीति में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस फ्रांस से युद्धक विमान राफेल की खरीद...

आंदोलन की राह पर किसान

किसान अपनी समस्याओं का समाधान चाहते हैं। फसल ऋण मांफी और फसल का लाभकारी दाम तय करने की मांग को लेकर अलग-अलग धरना-प्रदर्शन नहीं करेंगे। अब वे राष्ट्रीय स्तर पर किसानों का एक मंच...

बाघों के 25 स्टार्ट-अप से अरबों की कमाई

यह आपको अजीब लगे पर हकीकत यही है कि भारत में इस समय बाघों के अनेक स्टार्ट-अप हैं और हरेक की कमाई करोड़ों नहीं अरबों रुपए में हैं। अपने इन 25 स्टार्ट-अप से वे हमें...

नौकरशाह बने भ्रष्टाचारियों के संरक्षक

संस्कृति मंत्रालय के नौकरशाह भ्रष्टाचारियों के संरक्षक बने बैठे हैं। मंत्रालय से जुड़ी तकरीबन सभी संस्थाओं में यह चर्चा आम है। वे सहज ही कहते मिल जाते हैं कि आप कुछ भी कर लें,...
- Advertisement -

LATEST NEWS

MUST READ