28.1 C
delhi
Thursday, March 21, 2019

दिल्ली में अयोध्या-दर्शन

भगवान राम की जन्मस्थली अयोध्या को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के प्रांगण में साकार कर दिया गया। जिन लोगों ने अयोध्या को नहीं...

आस्था और अंतस

यदि किसी मंदिर की किसी परंपरा में कोई विशेष प्रावधान है, जिसे वर्षों से श्रद्धालु मानते चले आ रहे हैं तो उसमें विभिन्न तर्कों...

स्वामी विवेकानंद ने दिया था शिकागो से सहिष्णुता का संदेश

व्यक्ति विशेष के कारण कुछ तारीखें इतनी महत्वपूर्ण हो जाती है कि आगे आने वाला समाज इससे निरंतर प्रभावित होता रहता है। साथ ही...

देखेंगे पहली बार…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रयाग अर्द्धकुंभ प्रारम्भ होने के पहले प्रयागराज पहुंचे। उन्होंने संगम तट के निकट अरैल के नजदीक बने उस स्थल पर पूजा-अर्चना...

कुंभ से पहले युवा कुंभ

प्रयागराज में इसी माह से कुंभ जैसा बड़ा धार्मिक-सांस्कृतिक आयोजन होने जा रहा है। पूरे विश्व से करीब 15 करोड़ लोगों के आने का...

गरीबों को ‘शिकार’ बना रही है ईसाई मिशनरी

झारखंड के लिट्टीपाड़ा प्रखंड (पाकुड़ जनपद) के कामोगोड़ा में दो गांव हैं। पहला छोटा कोमागोड़ा और दूसरा बड़ा कामोगोड़ा। इसमें तीन...

ताकि न टूटे सब्र का बांध

जय श्रीराम की ऐसी हुंकार 1992 के बाद पहली बार सुनने को मिली। जिसने सुनी, उसने कहा, ‘राम की लीला है अपरंपार।’...

महिलाओं के लिए निराशाजनक

खेल जगत को छोड़ दें तो महिलाओं के लिए साल 2018 निराशा से भरा रहा। उनके सशक्तिकरण के दावे खोखले साबित...

कुंभ में किन्नर अखाड़ा भी!

अखाड़ा परिषद अब किन्नरों को संन्यासी बनाने के लिए तैयार हो गया है। सभी अखाड़ों ने संन्यासी बनने के इच्छुक किन्नरों के प्रवेश के लिए अपना द्वार खोलते हुये कहा है कि संन्यास लेने वाले किन्नरों को सनातन धर्म की परम्परा के अनुरूप आचरण और जीवनयापन करते हुये जप-तप में लीन होना पड़ेगा। संन्यास लेने वाले किन्नर को धर्मशास्त्र की जानकारी है तो मंडलेश्वर या महामंडलेश्वर जैसे उच्च पद भी दिये जायेंगे।

घटनाएं जिन्होंने बीते लम्हों को मथा

साल 2018 में जिन बड़े सामाजिक बदलावों की पीठिका तैयार हुई, उनकी पटकथा देश के संवैधानिक स्तंभों में से एक न्यायपालिका...
- Advertisement -

LATEST NEWS

MUST READ