होनहार बिरवान के…

0
22

अपनी कप्तानी में भारतीय टीम को अंडर-19 विश्व कप का खिताब दिलाने वाले दाहिने हाथ के बल्लेबाज 18 वर्षीय पृथ्वी शॉ ने एक दिवसीय और टी-20 में अपने शानदार प्रदर्शन से सबको चकित कर दिया था। इसके बाद जब उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ राजकोट टेस्ट में मौका मिला तो उन्होंने यहां भी न खुद को साबित किया बल्कि अपने पहले ही टेस्ट में रिकॉर्डों की झड़ी लगा दी।

वेस्टइंडीज के खिलाफ शॉ ने 99 गेंदों पर 134 रनों की शानदार शतकीय पारी खेली। इस एक मैच में शॉ ने कई रिकॉर्ड बनाया। शॉ पदार्पण टेस्ट में सबसे तेज शतक लगाने वाले तीसरे बल्लेबाज बन गए। इस सूची में पहले नंबर पर शिखर धवन (85 गेंद) और दूसरे नंबर पर ड्वेन स्मिथ (93 गेंद) हैं। इसके अलावा वह पदार्पण टेस्ट मैच में शतक लगाने वाले चौथे युवा बल्लेबाज हैं। इस सूची में पृथ्वी से पहले बांग्लादेश के मोहम्मद अशरफुल, जिम्बाब्वे के हेमिल्टन मसकदजा और पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी सलीम मलिक का नाम शामिल है। यही नहीं, पृथ्वी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहला शतक लगाने वाले दूसरे सबसे युवा बल्लेबाज हैं। इस सूची में सचिन तेंदुलकर शीर्ष पर हैं।

अपना अंतरराष्ट्रीय करियर शुरू करने से पहले पृथ्वी शॉ ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में सात शतक और पांच अर्धशतक लगा चुके हैं। उन्होंने 14 प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैच खेले हैं और 1418 रन बनाए हैं। 188 उनका सर्वोच्च स्कोर है। पृथ्वी शॉ ने 22 लिस्ट ए मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने तीन शतक और पांच अर्धशतक लगाए हैं। लिस्ट ए मैचों में उन्होंने 938 रन बनाए हैं। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में शॉ ने इस साल दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए खेला। यह उनका पहला आईपीएल था। उन्होंने आईपीएल में 9 मैच खेले और दो अर्धशतक सहित 245 रन बनाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here